Skip to content

क्षण-क्षण

जनवरी 12, 2017

. जीवन योजना बद्ध नहीं है। और यही एक मात्र ढंग है, जीवंत होने का। . संपूर्ण अनियोजित, भविष्‍य के संबंध में बिलकुल अनभिज्ञ–यहां तक कि अगले क्षण के संबंध में भी। आज पर्याप्त है–वास…

Source: क्षण-क्षण

Advertisements

From → Uncategorized

टिप्पणी करे

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: